Love festival : यहाँ लोग प्रेमी युगल की याद में एक दूसरे के ऊपर ईट और पत्थर की बरसात हैं

Dekhiye Bharat ka sabse anokha mela , jahan log ek-dusre ko marte hai eet or patthar

जैसा की आप सब जानते है की भारत अनेक धर्मो वाला देश है और उन धर्मो के कई रीती रिवाज़ और कई अजीबो-गरीब परम्पराए भी है । ऐसी ही अजीबो-गरीब परम्पराओ हमे देखने को मिलती है मध्य प्रदेश के गोटमार मेले में , जहाँ लोग एक दूसरे को मारते है ईट और पत्थर ।

गोटमार मेला हर साल मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले में लगता है इस मेले में लोग एक प्रेमी युगल की याद में लोग एक दूसरे के ऊपर ईट और पत्थर की बरसात करते है । इस पत्थरबाजी के पीछे एक कहानी है , कहाँ जाता है की सावरगांव का एक लड़का पांढुर्ना की लड़की से प्यार करता था पर दोनों के ही गांव वालो को उन दोनों का प्यार बिलकुल मंज़ूर नहीं था । जिसके चलते लड़के ने उस लड़की के साथ भागने का फैसला किया । जब ये दोनों जाम नदी के पास पहुंचे तो दोनों तरफ से गांव वालो ने इन्हे घेर लिया और दोनों गांव के लोगों ने एक दूसरे के ऊपर जमकर पत्थरबाजी की । इस पत्थरबाजी के कारण प्रेमी युगल की नदी के बीच में ही मौत हो गई थी । जिसके बाद से इस प्रेमी युगल की याद में हर साल गोटमार मेला आयोजित किया जाता है।

जब भी गोटमार मेला आयोजित होता है तब दोनों जाम नदी के पास हज़ारो लोग जुटते है और इसके बाद शुरू होती है ये अजीबो-गरीब परम्परा जहाँ जाम नदी के बीच में एक झंडा लगाया जाता है और नदी के किनारे खड़े लोगो को उस झंडे को गिरना होता है और उसे गिरने के लिए लोग ईट, पत्थर का इस्तेमाल करते है । जिस गांव के लोग झंडे को गिरा देते हैं , उन्हें विजेता घोसित कर दिया जाता है । झंडे को गिराने के चक्कर में हर साल इस मेले में काफी लोग घायल हो जाते है जिसके चलते इसे सरकार ने इस परम्परा पर प्रतिबंद लगा दिया ।

पर लोग इस परम्परा को छोड़ने को बिलकुल तैयार नहीं है जिसके चलते इस साल होने वाले गोटमार मेले में कोई पत्थरबजी न हो इसके लिए प्रशासन ने कहा की मेले के दौरान पत्थरबाजी रोकने के व्यापक प्रबंध किए गए हैं। करीब एक हजार पुलिस जवानों की तैनाती की गई है।

देखिये गोटमार मेले की ये वीडियो

viaYoutube

love festival

loading...