देखिये वायरल हुए इस वीडियो में इंसान की औकात कुदरत के सामने क्या है !

इंसान भले ही अपने आप को बड़ा मन ले पर असल में कुदरत के आगे ये कुछ भी नहीं !

इंसान अपने आप को सबसे बुद्धिमान और सबसे चालक प्रजाति समझता है ! उसे लगता है उसे बड़ा कोई नहीं है ! उसकी अक्ल का कोई मुकाबला नहीं कर सकता ! वो सबसे जायदा जानने वाला है उसे सब पता है ! पर अब एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमे बहुत बेहतरीन तरीके से दिखाया गए हैं की इस अंतहीन ब्रह्माण्ड में इंसान की हैसियत एक चींटी से भी काम है ! हम जिस दुनिया में रहते है वो सूरज का एक छोटा उपग्रह है ! सूरज का चाकर लगाने वाले और भी उपग्रह मौजूद है ! सूरज खुद एक तारा है और आसमान में इससे बड़े बड़े न जाने कितने तारे मौजूद हैं ! हमारा सूरज हमरी आकाशगंगा का एक छोटा हिस्सा है ऐसे न जाने कितने सूरज हमरी आकाशगंगा में मौजूद हैं ! और हर सूरज के अपने उपग्रह हो सकते हैं और ब्रह्माण्ड में मौजूद आकाश गांजा की संख्या भी अनंत  है ! हर आकशगंजा में बेहिसाब तारे हैं हर तारा अपने आप में एक सूरज है ! हर आकाशगंगा की दूसरे आकाशगंगा से दुरी बहुत है ये इतनी दुरी पे हैं की हम जल्दी माप भी नहीं सकते हैं ! जब अत्यत लम्बी दुरी की बात की जाये तो उसका मापन प्रकाश वर्ष में होता ये दुरी प्रकाश दौरा एक वर्ष में तय की गयी दुरी के बराबर होती है ! 

Image via Brews OHare on Wikimedia Commons .

A light beam takes 8 minutes to travel the 93 million miles (150 million km) from the sun to the Earth. 

प्रकाश की गति लगभग 299792458 m/s होती है !

एक घंटे में प्रकाश 671 मिलियन माइल्स की दुरी तय कर लेता है  

प्रकाश की गति लगभग c=299792458 m/s

एक प्रकाश दुवारा एक प्रकाश वर्ष में तय की गई दुरी !

s= 299792458*60*60*24*365= 9,500,000,000,000 Km

loading...