ये है भारत की ऐसी जगह जहाँ दूल्हा नहीं बल्कि दूल्हे की बहन चढ़ती है घोड़ी | Girl marry to her sister in law

जैसा की हम सब जानते है की हमारा भारत अजीबो-गरीब परम्पराओ वाला देश है और कई परम्पराए तो ऐसी है जिसके बारे में जानकर हम सब हैरान हो जाते है और यही सोचते है की भला ऐसी भी कोई परम्परा हो सकती है . ऐसी ही एक परम्परा के बारे में हमे पता चला की "भारत में एक ऐसी जगह है जहाँ दूल्हे की जगह उसकी कुंवारी बहन घोड़ी चढ़ती है" .तो हमने सोचा क्यों न ये आपको भी बताना चाहिए ,तो फिर देर किस बात की आइये पढ़ते है इस अजीबो-गरीब परम्परा के बारे में .

इस अजीबो-गरीब परम्परा को देखने के लिए आपको गुजरात के छोटे उदयपुर जिले में जाना होगा . इस जिले के तीन गांव  "सुरखेड़ा", "अंबाला" और "सनाड़ा" में रहने वाले एक समाज राठवा के लोग शादी से जुड़ी एक परम्परा को मानते है . आपको बता दे की इनकी परम्परा के अनुसार यहाँ शादी दूल्हे से नहीं बल्कि दुल्हन और दूल्हे की कुवारी बहन से होती है. शादी की रश्मे तो सब वही रहती है पर उन रश्मो को दूल्हा नहीं बल्कि उसकी बहन निभाती है

यहाँ तक की यहाँ दूल्हा नहीं बल्कि उसकी बहन घोड़ी चढ़ती है और दुल्हन को वरमाला भी लड़की की पहनाती है और साथ ही दुल्हन के साथ वो ही सात फेरे लेती है. पर इसका मतलब ये नहीं की उस लड़की की शादी दूसरी लड़की से करवादी गई है बल्कि ये सब उस परम्परा के अनुसार ही होता है . दूल्हे की बहन दुल्हन की विदाई कराकर उसे ससुराल लेकर आती है . जिसके बाद दुल्हन को दूल्हे को सौंप दिया जाता है . इसके बाद यहाँ दूल्हे और दुल्हन की दुबारा शादी करवाई जाती है ओर शादी की सारी रश्मे दुबारा से निभाए जाते है .

ऐसा कहा जाता है की इन तीन गावो के एक-एक नगर देवता हुआ करते थे और तीनो कुंवारे रहे ज़िन्दगी भर. खुद की शादी नहीं हुई तो उन्होंने ये तय किया की वो किसी और को भी शादी करते नहीं देख सकते.अब यहां अगर कोई लड़का खुद अपनी शादी में चला गया तो नगर देवता नाराज़ जाएंगे. फिर उस लड़के के साथ कुछ बहुत बुरा होगा. वो मर भी सकता है. इसलिए शादी वाले दिन, दूल्हा अपने घर में ही कैद रहता है.

ये परम्परा पिछले 300 सालों से बिना किसी रोक-टोक के चल रही है और तब से ही राठवा समाझ के लोग यूं ही दो लड़कियों की शादियां करवा रहे है .

gujarat weird marriage customs traditions girl marry girl

loading...