भारत के नए राष्ट्रपति ने पल-भर में पाए 30 लाख नए ट्विटर follower , ये न्यूज़ है या मूर्खता ?

" भारत के नए राष्ट्रपति कोविंद ने जैसे ही अपने ट्विटर की शुरुवात की तो, पल-भर में ही उन्हें मिले 30 लाख नए ट्विटर follower " . राष्ट्रपति कोविंद की ये खबर इन दिनों भारतीय मिडिया में काफी चर्चा बटोर रही है।
पर क्या सच में ही कुछ ही समय में राष्ट्रपति कोविंद को इतने follower मिले, या इसके पीछे कुछ और बात है ? आगे पढ़िए ...

पहले हम आपको दिखाते है की किस तरह राष्ट्रपति कोविंद की ये खबर Republic से लेकर Times of India तक लग-भग हर जगह चर्चा में रही ।

Zee न्यूज़ ने तो यहाँ तक कहा की “राम नाथ कोविंद ने ट्विटर पर लग-भाग 30 लाख से ज़्यादा follower कुछ घंटो में नहीं बल्कि कुछ मिनटों में पाए "  | पर उसने ये नहीं बताया की कैसे ?

इससे साफ़ ज़ाहिर होता है की हमारी मिडिया किसी भी न्यूज़ को जांच के बिना ही छापने को तैयार रहती है । 

पल-भर में मिले इतने follower को देखकर सबसे पहले हमारे मन यही सवाल  उठता है की कैसे कुछ ही मिनटों में ही किसी को इतने followers मिल सकते है और  हमारे पूर्व राष्ट्रपति के ट्विटर पर कितने follower थे ? 

वैसे तो ये सवाल न ही तो Republic TV से लकर  Times of India, Economic Times, Financial Express, Zee News इन सभी बड़ी मिडिया कंपनियों के दिमाग में नहीं आया । बस उन्हें दिखा तो ये की किस तरह हमारे नए राष्ट्रपति ने कुछ ही देर में ट्विटर पे पा लिए 30 लाख follower .

चलिए वो तो नहीं पर हम आपको बताते है ये कैसे काम करता है ।

भारत में राष्ट्रपति भी सोशल मिडिया के ज़रिये लोगो से जुड़े रहते है और अपनी मन की बात लोगो तक पहुंचते है। पर ये उनके निजी अकाउंट नहीं होते .

दरअसल राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और विभिन्न मंत्रालयों के मत्रियो के ट्विटर अकाउंट भारतीय सरकार के अंतर्गत होते है। यानि ये सोशल मिडिया अकाउंट किसी के निजी अकाउंट नहीं होते  । जिस तरह पूर्व राष्ट्रपति अपनी गद्दी छोड़ने से पहले आने वाले नए राष्ट्रपति को अपनी हर चीज़ सोंपता है उसी तरह पूर्व राष्ट्रपति के  सोशल मिडिया के सारे अकाउंट भी ने राष्ट्रपति के हो जाते है ।  

हमारे पूर्व राष्ट्रपति के द्वारा किये गए आखरी ट्वीट

  हमारे पूर्व राष्ट्रपति के द्वारा किये गए आखरी ट्वीट

जब भी कोई नए राष्ट्रपति अपने ट्विटर अकाउंट की शुरुवात करता है तो भले ही उनके अकाउंट में शून्य ट्वीट होते है पर विरासत में मिले ट्विटर अकाउंट में followers भी उन्हें विरासत में ही मिल जाते है । यानि हमारे नए राष्ट्रपति कोविंद जी को भी ये 30 लाख  followers विरासत में ही मिले है ।

इस तरह की खबर एक बार फिर हमे हमारी मिडिया की मानसिकता दिखती है की वो किस तरह बिना सोचे-समझे हमे भरम से भरी खबर दे रही है । अब जब भी आप इस विषय में आप कोई खबर पढ़े तो इनपे यकीन करने से पहले आप कुछ ये जांचे की क्या ये सही है या नहीं ।

twitter

loading...