बोस्निया नरसंहार क्या है ?

दूसरे विश्वयुद्ध के बाद बोस्निया यूरोप का एकमात्र ऐसा देश था जहां हुए नरसंहार में दो लाख से ज़्यादा लोग मारे गए थे और कई लाख लोग बेघर हो गए थे.बोस्निया युद्ध में 50,000 से अधिक मुस्लिम-महिलाओं को जान-बूझकर गर्भधारण कराया गया और न जाने कितनो का बलात्कार हुआ !

बोस्निया नरसंहार क्या है ?

दूसरे विश्वयुद्ध के बाद बोस्निया यूरोप का एकमात्र ऐसा देश था जहां हुए नरसंहार में दो लाख से ज़्यादा लोग मारे गए थे और कई लाख लोग बेघर हो गए थे.बोस्निया युद्ध में 50,000 से अधिक मुस्लिम-महिलाओं को जान-बूझकर गर्भधारण कराया गया और न जाने कितनो का बलात्कार हुआ !

बोस्निया नरसंहार क्या है ?

कहने के लिए तो ये गृहयुद्ध कहा जाता है पर असल में ये एक नरसंहार था ! इसमें लगभग 2 लाख लोग मरे गए ! हालात का अंदाज़ा इसी से लगा सकते हैं कि बोस्निया युद्ध में 50,000 से अधिक मुस्लिम-महिलाओं को जान-बूझकर गर्भधारण कराया गया और न जाने कितनो का बलात्कार हुआ ! ये बर्बर नरसंहार लगभग चार सालो तक चलते रहे ! इसने मानव अधिकार की बात करने वाले यूरोपियन का वो चहरा भी दिखया जिस यूरोप अक्सर छिपाते हैं ! इस नरसंहार ने उन बड़े देशो के बे नकाब भी किया जो हमेशा दुनिया में शांति स्थापित करने का ढिढोरा पिटे रहते हैं ! ऐसे यूरोप का दुतिये विश्व युद्ध के बाद सब बड़ा नरसंहार मन जाता है !

कहा से हुई शुरआत ?

साल 1991 and 1992, में Yugoslavia जातीय संघर्षो के दबाव ,आर्थिक समस्याओ और Serbian राष्ट्रपति Slobodan Milosevic के भड़काऊ बयान बाज़ी की वजह से विघटित हो गया ! Slovenia and क्रोएशिया दोनों ने अपने आज़ादी के की घोषणा कर दी ! बोस्निया मे भी आज़ादी की आवाज़ उठ रही थी ! एक जनमत संग्रह कराया गया ! जनमत संग्रह में 99 दशमलव 7 प्रतिशत लोगों ने इसे योगोस्लाविया से अलग करने के पक्ष में वोट डाले ! इस देश का क्षेत्रफल लगभग 51 हज़ार 129 वर्ग किलोमीटर है। इसके उत्तर और पश्चिम में क्रोएशिया पूरब में सर्बिया और दक्षिण पूर्व में मोन्टे नेगरो उस समय देश स्थित थे ।वर्ष 1991 में जारी किये जाने वाले आंकड़ो के अनुसार इस देश की 44 प्रतिशत जनसंख्या मुसलमानों पर आधारित थी और बालकान के इस गणराज्य में यह सबसे बड़ा जातीय समूह है। बोस्निया हेर्ज़ेगोविना द्वारा अपनी स्वतंत्रता की घोषणा योरोप के इतिहास की एक बड़ी त्रास्दी का आरंभ थी। संयुक्त राष्ट्र स्थिति को देखते हुए Protective Force साल 1992 में भेजी ! आगे संयुक्त राष्ट्र ने इस क्षेत्र में हथियार प्रतिबंध भी लगाया ! पर Serbian forces पे हैवानिये सवार थी ! जब आधुनिक यूरोप ऐसे बर्बर वहशी दरिंदगी की कोई कल्पना भी नहीं कर सकता था ! सर्बों ने दुनिया को वो हैवानियत दिखाई जिसकी मिसाल बा मुश्किल ही कही मिले ! सर्बों ने मुसलमानों का बड़ी निर्ममता के साथ सामूहिक जनसंहार किया । यह अमानवीय अपराध 43 महीनों तक जारी रहा। जिसमें ढाई लाख मासूम इंसानो के ख़ून की होली खेली गयी और लगभग 15 लाख लोग शरणार्थी हो गये।

साल 2015 में उस नरसंहार के शिकार हुए कई हज़ार निर्दोष लोगों को सम्मान के साथ याद किया गया.न्यूयॉर्क में इस अवसर पर विचार रखते हुए बान की मून का कहना था कि मुस्लिम पुरुषों और लड़कों की बर्बर तरीक़े से हत्या किया जाना अन्तरराष्ट्रीय समुदाय की अन्तरात्मा को हमेशा झकझोरता रहेगा.मानवता को दहला देने वाली उस घटना में बोस्नियाई सर्ब सेनाओं ने क़रीब 8000 निर्दोष मुसलमानों की हत्या कर दी थी.
http://www.unmultimedia.org/radio/hindi/archives/4712/#.WLqo5NL5jIW

दुनिया की बड़ी शक्तियों की इस नरसंहार को रोकने में क्या भूमिका थी !

अमरीका में ये मुद्दा अभी भी चर्चा का विषय बना हुआ था ! तत्कालीन राष्टपति George H. W. Bush और उनके सलाहकार अभी भी इस मुद्दे को यूरोप का इंदुरूनी मामला मन रहे थे  जिनका ये मनना था चुकी ये मुद्दा यूरोप का है इसलिए इसका समाधान भी यूरोप ही करेगा ! कुछ समय बाद अमेरिका में चुनाव हुए और बिल क्लिंटन नए राष्टपति बने ! सत्ता परिवर्तन के साथ ही अमरीका तोड़ा एक्टिव हुआ और अमेरिकी राजदूत Madeleine Albright  ने United नेशन्स एक प्रस्ताव लाया जिसमे बोस्निया युद्ध में U.N. की भीमिका और बढ़ने की बात थी ! January 1993 बुश प्रशासन के आखरी दिनों में United Nations and the European Union एक शांति योजने पे सहमत हुए ! इसे Vance-Owen Peace Plan (VOPP) for बोस्निया कहा गया ! एक महीने बाद U.N. Security Council ने पूर्व यूगोस्लाविया ने न्यायाधिकरण की स्थापना और और अमेरिका रात के समय मुस्लिम परिक्षेत्रों में खाने की सामग्री विमान से गिरना शुरू किया ! मार्च 1993 को संयुक्त राष्ट्र ने बोस्निया को no-fly zone घोषित किया ! जब संयुक्त राष्ट्र ने मुस्लिम परिक्षेत्रों Sarajevo, Bihac, Tusla, Srebrenica, Zepa, and Gorazde को “safe areas.” घोषित किया तब इनके सुरक्षा का उपाय Security Council के दुवारा नहीं किया गया !  मई 1 President Clinton ने Secretary of State को समर्थन जुटाने के लिए नाटो सदस्यो और रूस के पास भेजा ताकि अमरीकी “lift and strike” रणनीति को समर्थन मिल सके ! लेकिन Clinton की ये कोशिश नाकाम रही ! सदस्य देश जो UNPROFOR में भाग ले रहे थे उनका कहना था उनकी फौजो के हलके हतियारो के साथ इस समस्या का सामना नहीं कर सकती उनके आसानी से बंदी बन जाने की सम्भावना है और ये देश अमेरिका के air campaign के समर्थन में भी नहीं थे ! अमेरिका को सैन्य हस्तक्षेप का समर्थन नहीं मिला और सिर्फ तोड़े से यूरोपियन सपोर्ट से अमेरिका कोई बड़े फैसला नहीं ले पाया ! जिस वजह से ये युद्ध 2 साल और चलता रहा ! लोग मरते रहे, खबरे आती रही, लोग पड़ते रहे ,अफ़सोस करते रहे है क्यों की अफ़सोस करना सबसे आसान काम है और इसमें कुछ खोने का डर नहीं होता !
                                                   जून 1993 में U.N द्वारा घोषित “safe area” स्रेब्रेनिका पर हमला कर दिया ! U.N ने नाटो को air power की इजाज़त दी ताकि UNPROFOR (यूनाइटेड प्रोटेक्शन फोर्सेज ) की सहायता की जिसके ! क्योंकि U.N. and NATO  के बीच के “dual key” arrangement था सामरिक जिनके अनुसार नाटो वायु शक्ति का उपयोग तभी कर सकता है यदि सर्बियन हमला होता है ! इससे U.N की भूमिका भी युद्ध रुकवाने में नाकाम संगठन की रही ! अप्रैल 1994 Bosnian Serb फोर्सेज ने Gorazde पर आक्रमण शुरू कर दिया और एक UNPROFOR सैनिक को भी मर दिया ! इसकी सुचना मिलने पर नाटो ने हवाई हमले किये ! बदले में  Bosnian Serbs सेना ने एक UNPROFOR के एक दाल को घेर लिया और आयलान किया अगर नाटो ने दुबारा हवाई हमले किया तो सरे UNPROFOR सैनिक और उनके कमांडर Ratko Mladic को मर दिया जायेगा !

कैसे शांत हुआ बोस्निया ?

इसके कुछ समय बाद अमेरिका ने  spearhead policy को आगे किया ताकि युद्ध समाप्त हो ! इस नीति के अनुसार Bosnia एक राज्य बना रहेगा जिसमे Muslim-Croat federation and a Serb entity, दोनों शामिल हो और इसकी ये पहचान संविधान के साथ जुडी होगी ! इसके अनुसार Muslim-Croat federation देश के 51 % हिस्सो को नियंत्रित करेगा और 49 % हिस्सा पर सर्बियन का होगा ! Bosnian Croats and Bosnian Muslim group ने शांति समझौते पर हस्ताक्षर कर दिए जिसे 1994 washington समझौता कहा गया !  Bosnian Serbs ने इस प्लान को रिजेक्ट कर दिया ! 1995 के शुरू में Bosnia-Herzegovina. में संघर्ष फिर से शुरू हो गए ! Without logistical support from Serbia, बोस्नियाई  सरब  सेना ने UNPROFOR गार्ड्स को दरकिनार करते हुए  U.N.-secured weapons, लूट लिए ! जब नाटो ने हवाई हमला किया तो सर्ब सेना ने UNPROFOR गार्ड्स को बंदी बना लिया इनका इस्तेमाल human shields की तरह करने के लिए ! नाटो ने एक combat-ready Rapid Reaction Force उतार दिया ! जुलाई में बोस्नियाई सरब कमांडर्स eastern enclaves of Srebrenica and Zepa पर आक्रमण शुरू कर दिया ! यही पर मानवता को दहला देने घटना में बोस्नियाई सर्ब सेनाओं ने क़रीब 8000 निर्दोष मुसलमानों की हत्या कर दी थी.  जब इतना बड़ा नरसंहार हुआ तब जा कर पश्चिम शतियों ने इस नरसंहार को बंद करवाने में अपना ज़ोर लगाया ! 21 जुलाई को लंदन में एक आयोजन में  “dual key” पालिसी के निर्णायक अंत पर UNPROFOR delegated and NATO commanders एक राय हुए और इस बात की सहमति बानी की भविष्य में होने वाले किसी भी हमले मतलब (हमले का जवाब ) एक निरंतर हवाई हमला होगा ! नए Assistant Secretary of State for Western Europe, Richard Holbrooke, इस पालिसी की लागु करने में और शांति समझौता कायम करने में एक अहम् भूमिका निभाई ! 25 अगस्त को एक mortar shell बाजार में फटा जो की साराजेवो में स्थित है ! इसके जवाब में नाटो लगतार 2 हफ्ते सरब  सेना के ठिकानो पे हमले करता है ! आखिरकार Croats and Muslim group ,Rapid Reaction Force के ज़मीनी सपोर्ट , नाटो के हवाई हमले और Richard होलब्रूक की रणनीति की वजह से सितंबर के आखिर में शांति स्थापित हो जाती है !

UNO Serbia Slovenia Yugoslavia bosnian war

loading...