चेन्नई के 18 वर्षीय एक लड़के ने बनाया दुनिया का सबसे छोटा सैटेलाइट , नासा भेजेगा अंतरिक्ष में

इसका वज़न 64 ग्राम है और इसे दुनिया का सबसे छोटा सैटेलाइट मन जा रहा है

चेन्नई के रहने वाले 18 वर्षीय रिफ़त शारूक़ ने एक बड़ा कारनामा किया है उसने एक कृत्रिम उपग्रह यानी सैटेलाइट बनाया है ! जिसका वज़न 64 ग्राम है ! इसे अमरीका की स्पेस एजेंसी नासा जून में अंतरिक्ष की कक्षा में भेजेगी. खबरों की मने तो रिफ़त ने जो कृत्रिम उपग्रह (सैटेलाइट) बनाया है वो संभवत: दुनिया का सबसे हल्का सैटेलाइट है.

नासा और आईडूडल की तरफ़ से एक प्रतियोगिता आयोजित की गई थी ! जिसका नाम था 'क्यूब्स इन स्पेस ' ,इसी प्रतियोगिता में इस सैटेलाइट को चुना गया है.

रिफ़त बताते हैं कि उनका मक़सद थ्री-डी प्रिंट तकनीक से उपलब्ध कार्बन फ़ायबर की परफ़ॉर्मेन्स को दिखाना था.

रिफ़त बताते हैं कि उनका मक़सद थ्री-डी प्रिंट तकनीक से उपलब्ध कार्बन फ़ायबर की परफ़ॉर्मेन्स को दिखाना था. Courtesy: Twitter/RIFATHSHAAROOK

रिफ़त ने बताया यह सैटेलाइट चार घंटे के उप कक्षा ( सब ऑर्बिट) मिशन पर भेजा जाएगा. इस दौरान, ये हल्का सैटेलाइट अंतरिक्ष के सूक्ष्म गुरुत्वाकर्षण के वातावरण में 12 मिनट तक रहेगा.

रिफ़त बताते हैं, " हमने इसे लगभग शून्य से शुरुआत कर बनाया है. इसमें एक नए तरीके का ऑन-बोर्ड कंप्यूटर है और देश में बने आठ सेंसर लगाए गए हैं जो गति, चक्रगति और धरती के मैगनेटोस्फ़ीयर को मापेगा."

सैटेलाइट का नाम 'कलामसैट' रखा गया है और ये पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम के नाम पर रखा गया है.

सैटेलाइट का नाम 'कलामसैट' रखा गया है और ये पूर्व राष्ट्रपति अब्दुल कलाम के नाम पर रखा गया है. Courtesy: FACEBOOK/RIFATHSHAAROOK

रिफ़त चेन्नई की एक संस्था स्पेस किड्ज़ इंडिया से जुड़े हैं और वो तमिलनाडु के एक छोटे शहर से हैं .

space

loading...