भारतीय सिनेमा के इतिहास में अभिनेता और अभिनेत्री द्वारा महान अभिनय प्रदर्शन !

हमेशा बॉलीवुड एक फिल्मों के लिए प्रतिष्ठित सितारों द्वारा एक अच्छा प्रदर्शन करने का स्थल हैं जहां पर इन फिल्मों में वास्तव में बॉलीवुड को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिनिधि करते हैं और वह दुनिया को यह बताते हैं कि सिर्फ सिनेमा गाने और नृत्य करने के लिए ही नहीं है
लोगों का मानना है कि बॉलीवुड सिनेमा मैं फिल्म के लिए मसाला और रोमांटिक नाटक कुछ अभिनेता द्वारा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया गया है आज हम आपको इसी के बारे में बता रहे हैं

1. दिलीप कुमार - देवदास (1955)

दिलीप कुमार - देवदास (1955)

ट्रेजडी के राजा के रूप में बॉलीवुड में जाने जाने वाले सत्यजीत राय के अलावा दिलीप कुमार जिन्हें परम विधि अभिनेता के रूप में भी जाना जाता है जिन्होंने बॉलीवुड इतिहास में सबसे सम्मानित अभिनेता कहा जाता है दिलीप साहब ने देवदास फिल्म में सबसे अच्छी भूमिका निभाई है जो की इतिहास में अब तक की सबसे अच्छी भूमिका है 

2. नूतन - बंदिनी (1963)

नूतन - बंदिनी (1963)

एक समय था जब कोई औरत को उन्मुख बॉलीवुड फिल्मों में बंदिनी के अभिनय का एक चलन बन गया था जिसे विमल रॉय द्वारा निर्देशित किया गया फिल्म की कहानी में नूतन ने जो भूमिका निभाई है वह एक हत्या के दोषी होने के बाद जेल में उसके जीवन को प्रदर्शित किया गया है इस फिल्म में उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था और इसमें अशोक कुमार और धर्मेंद्र ने भी अभिनय किया था

3. उत्पल दत्त - भुवन शोम (1969)

उत्पल दत्त - भुवन शोम (1969)

उत्पल दत्त को बॉलीवुड में प्रतिष्ठित अभिनेता और ज्यादातर चरित्र रोल के किरदार के लिए या फिल्म में एक सहायक अभिनेता के रूप में जाना जाता है उनकी सबसे अच्छा अभिनय 1969 की हिंदी फिल्म भुवन शोम में किया था इस फिल्म में उन्हें अपने अभिनय के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार भी दिया गया था 

4. बलराज साहनी - गर्म हवा (1974)

बलराज साहनी - गर्म हवा (1974)

बलराज साहनी ने इसमें एक मुस्लिम परिवार के बड़े भाई का अभिनय किया है जो आगरा में रहता है यह फिल्म मिर्जा परिवार के ऊपर बनाई गई है जो 1947 के बंटवारे के ऊपर है इस फिल्म बहुत नाम कमाया और इसमें बलराज साहनी की बहुत अच्छा अभिनय है इसलिए इस फिल्म को सर्वश्रेष्ठ विदेशी फिल्म की श्रेणी में रखा गया और इस फिल्म को अकादमी पुरस्कार भी मिला है 

5. अमिताभ बच्चन - दीवार (1975)

अमिताभ बच्चन - दीवार (1975)

अमिताभ बच्चन ने अपने करियर के शुरूआत में 13 फ्लॉप फिल्में दी उसके बाद उन्हें जंजीर फिल्म में "इंडिया फर्स्ट एंग्री मैन" का शीर्षक दिया गया ज़ंजीर उनकी पहली फिल्म थी जिसमें उन्हें बहुत प्रशंसा मिली और उसके बाद उनके दीवार फिल्म में विजय के किरदार को बहुत अच्छी तरह से सराहा गया दीवार का किरदार आज तक की फिल्मों में सबसे अच्छा किरदार माना जाता है

6. अमजद खान - शोले (1975)

अमजद खान - शोले (1975)

शोले आज भी एक व्यंग्यात्मक फिल्म मानी जाती है इसकी पटकथा, स्क्रिप्ट, प्रतिष्ठा, छायांकन और इसमे सभी बड़े अभिनेताओं जैसे धर्मेंद्र, अमिताभ बच्चन, संजीव कुमार, हेमा मालिनी और जया भादुड़ी थी इसके बावजूद अमजद खान एक नए कलाकार जिन्होंने इस फिल्म में सबसे यादगार भूमिका निभाई उनका अभिनय गब्बर सिंह का था जो कभी ना भूलने वाला अभिनय है गब्बर सिंह के सारे संवाद बहुत प्रसिद्ध है उन्हे इस फिल्म के लिए एक डकैत के रूप में अपने शानदार प्रदर्शन के लिए सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता के लिए पहला फिल्मफेयर पुरस्कार जीता। 

7. अमोल पालेकर - गोलमाल (1979)

अमोल पालेकर - गोलमाल (1979)

गोलमाल हरिकेश मुखर्जी द्वारा निर्देशित फिल्म हैं जिसमें अमोल पालेकर ने प्रमुख अभिनेता किया जिनके साथ हो उपल दत्त भी थे बिंदिया गोस्वामी देवेन वर्मा और दीना पाठक ने इसमें सहायक अभिनेता का अभिनय किया.  हरिषि दा का जादू जिन्होने एक प्यारी प्रेम कहानी की प्रदर्शित किया है अमोल पालेकर द्वारा इसमें प्रतिभाशाली अभिनय किया गया उन्होंने इसमें राम प्रसाद और लक्ष्मण प्रसाद दो भाइयों का रोल किया जिसके लिए उन्हें फिल्म फेयर बेस्ट एक्टर अवार्ड भी मिला

8. नसरुद्दीन शाह - स्पर्श (1980)

नसरुद्दीन शाह - स्पर्श (1980)

नसरुद्दीन शाह को  अभीतक का बहुमुखी अभिनेता के रूप में जाना जाता है हालाँकि उन्हें अमिताभ बच्चन के रूप की लोकप्रिय नहीं मिली लेकिन सुपरस्टार नजीर साहब विज्ञापन फिल्म उद्योग में अपना अभिनय प्रदर्शित करके भारतीय सिनेमा में बहुत योगदान दिया है उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन 1986 में बनी स्पर्श फिल्में हैं जहां वह एक नेत्रहीन बच्चों के प्रिंसपल बने हैं इस फिल्म के लिए उन्हे सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी मिला हैं

9. रेखा - उमराव जान (1981)

रेखा - उमराव जान (1981)

अभी तक एक महिला पर केंद्रित फिल्म जो ज्यादातर जमा नहीं कर पाई थी लेकिन उसमें प्रमुख भूमिका उमरावजान जिसको रेखा ने निभाया था  इसने वास्तव में सिनेमा प्रेमियों के लिए बहुत प्रशंसा प्राप्त की थी उमराव जान के रूप में रेखा 80 के दशक में बहुत ज्यादा मशहूर हो गई थी जिन के विपरीत अमिताभ बच्चन थे यह कुछ उन सफल फिल्मों से है जिसको कभी भुलाया नहीं जा सकता इस फिल्म में रेखा को उमराव जान के लिए पहली बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला

10. अनुपम खैर - सारांश (1984)

अनुपम खैर - सारांश (1984)

अनुपम खेर ने 28 साल की उम्र में 1984 में बॉलीवुड में एंट्री की जिसमें उन्होंने एक फिल्म सारांश जिसमें उन्होंने सफलतापूर्वक एक 60 साल के ज़िद्दी रिटायर आदमी का अभिनय किया जिसने अपने बेटा को खो दिया है और अब वह अपने जीवन में सुधार कर रहा है जिस तरह से उन्होंने अपने चरित्र के माध्यम से एक गुस्सा और दर्द दिखाया है इस फिल्म ने उनके अभिनय द्वारा सब आलोचकों से प्रशंसा जीती है इस फिल्म में उन्हें एकमात्र फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार भी मिला है

11. डिंपल कपाड़िया - रुदाली (1993)

डिंपल कपाड़िया - रुदाली (1993)

अभी तक की बहुमुखी अभिनेत्री डिंपल कपाड़िया है जिन्होंने व्यवसायिक और कला सिनेमा दोनों में अपने प्रदर्शन किया है जबकि उन्हें सागर और जांबाज में ग्लैमरस भूमिका के लिए जाना जाता है उन्होंने रुदाली फिल्म में  यथार्थवादी का सबसे अच्छा प्रदर्शन किया.  शनिचरी जो उनकी विधवा मां हैं उन्होने उन्हें छोड़ दिया था जिसमें उन्होंने चित्र को बखूबी निभाया है इस फिल्म में अभिनय के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिला है

12. इरफान खान - पान सिंह तोमर (2011)

इरफान खान - पान सिंह तोमर (2011)

ऐसा कम ही देखने को मिलता है कि इतने कम पैसों में किसी की जीवनी एक सफल फिल्म बन कर उभरी हो बॉक्स ऑफिस पर पान सिंह तोमर उनमें से एक है जो 2012 में पदों पर आई  जिसमें इरफान खान की बेहतरीन अदाकारी देखने को मिलती है इसमे दिखाया गया  कि कैसे एक धावक, एक डकैत में बदल जाता है पान सिंह तोमर के लिए इरफान खान को अपनी बेहतरीन अदाकारी  के लिए नेशनल अवॉर्ड से भी  सम्मानित किया गया 

13. रणबीर कपूर - रॉकस्टार (2011)

रणबीर कपूर - रॉकस्टार (2011)

जब भी हम बॉलीवुड की फिल्मों के बारे में सोचते हैं तो हमारे ज़हन में सिर्फ गाने नाच और मसाला जैसी फिल्मों की कहानियां ही नजर आती है और ऐसी ही गानों से भरी फिल्म थी 2011 में रॉकस्टार जिसका निर्देशन इम्तियाज अली ने किया था और जिसमें रॉकस्टार की भूमिका मे नज़र आए रणबीर कपूर यह फिल्म दर्शाती है एक बेहतरीन निर्देशन को और एक बेहतरीन अभिनय को इसके गाने एसे जो दिल को छू गए, इस फिल्म के लिए रणबीर कपूर को बेहतरीन अभिनाए के लिए फ़िल्म्फायर से भी नवाज़ा गया

14. विद्या बालन - कहानी (2012)

विद्या बालन - कहानी (2012)

यह कहानी उन फिल्मों में से एक हे जिसमे भरपूर रहस्य था फिल्म की कहानी आपको आखरी तक बाँध के रखती हे और इसका पूरा श्रेय इस फिल्म के निर्देशक सुजॉय घोष को जाता है जिनके बिना शायद एसी फिल्म ना बनती इसमें मुख्य भूमिका मे नज़र आई  विद्या बालन जो की एक गर्भवती महिला का किरदार निभा रही है, उन्होने ने भी अपना अभिनाए का कमाल दिखाया जिसके लिए उन्हे काफ़ी पुरूस्करों से सम्मानित किया गया

15. नवाजुद्दीन सिद्दीकी - गैंग ऑफ वासेपुर 2 (2012)

नवाजुद्दीन सिद्दीकी - गैंग ऑफ वासेपुर 2 (2012)

नवाजुद्दीन सिद्धिकी जिन्होंने अपनी शुरुआत आमिर खान की फिल्म सरफरोश से की अब 2012 में मुख्य भूमिका में नजर फिल्म गैंग ऑफ वासेपुर मे जिसमें उन्होंने माफिया डॉन का किरदार "फेज़ल" निभाया गया उनका किरदार जो फिल्म देखने आए हर लोगो की ज़ुबान पर रहा और यही इसकी सफलता को दर्शने के लिए काफ़ी है, नवाजुद्दीन सिद्धिकी को उनके ज़बरदस्त अभिनय के लिए 60 वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में विशेष जूरी पुरस्कार मिला है।

16. कंगना राणावत - क्वीन (2013)

कंगना राणावत - क्वीन (2013)

कंगना राणावत एक अच्छी अदाकारा है जिन्होंने शायद ही कभी चुनौती भरी फिल्म ना की हो फैशन  से लेकर तनु वेड्स मनु तक उन्होंने हर तरह के अदाकारी पर्दे पर दिखाई है  उन्हीं में से एक है क्वीन, ये कहानी थी एक सीधी सादी पंजाबी लड़की की  जिसकी शादी होने से पहले ही लड़का घर से भाग जाता है और जिससे उसके दिल को ठेस पहुँचती है तब वो तय करती है की वह अपने हनीमून पर अकेले जाएगी. हर पिक्चर की तरह इस पिक्चर मे भी कंगना ने अपना जादू दिखाया और इस फिल्म ने भी काफी पुरस्कार जीते.

17. फरहान अख्तर - भाग मिल्खा भाग (2014)

फरहान अख्तर - भाग मिल्खा भाग (2014)

सफलता मिलती है मेहनत करने से यह साबित किया फरहान अख्तर ने  अपना किरदार फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह की जीवनी पर बनी भाग मिल्खा भाग में, जो की एक सफल फिल्म थी , इस फिल्म मे दिखाई ओलम्पिक के लिए ली ट्रनिंग  वो काफ़ी प्रानादये थी हमारे जवान धावको के लिए इस फिल्म से फरहान अख्तर ने भी दिखा दिया की वो किसी से कम नही, इस फिल्म ने भी कई पुरूस्कार जीते

loading...