10 facts- सोने से जुड़े 10 रोचक तथ्य , जैसे सोते वक़्त बोलना है या नींद में चलना

10 Fact about Sleeping.-
हमारे शरीर में ऐसी कई हरकते होती है जिसे शायद हम न समझ पाते है और जो सबसे ज़्यादा शरीर में कोई जटिल चीज़ है जिसे अभी तक कोई समझ नहीं पाया तो वो है हमारा दिमाग , हमारे दिमाग में ऐसी कई चीज़े चलती है जो हमारी समझ के परे है और हमारा दिमाग हमे खुली आँखों से वो नहीं दिखता जो वो हमारी आँखे बंद होने के बाद हमे दिखता है जी है हम बात कर रहे है 'हमारे सपनो की' ।

हम अपने सपनो में ऐसा कुछ देखते है और करते है जो हमारी समझ के परे होते है । सोते वक़्त इन सपनो पे हमारा कोई नियंत्रण नहीं होता है , बस हमे ये महसूस होता है पर कभी-कभी इन सपनो में इतना खो जाते है की हम सोते हुए बढ़ बढ़ाने लग जाते है और कभी तो हम नींद में चलने भी लग जाते है । ऐसा क्यों होता है यही आज हम आपको बताएंगे ।

आइये पढ़ते है नींद से जुड़े 10 Fact जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए ।

सपनो में सपना देखना ।

आप सभी ने हॉलीवुड की हिट फिल्म Inception तो देखी होगी जो इन्ही सपनो के ऊपर ही बनी थी, जिसमे लोग सपनो के अंदर एक और सपना देखते है पर हम आपको बता दे की ऐसा असलियत में होता है आपने कई बार ऐसा महसूस किया होगा की आप सपना देखकर जागते है तो आपको पता लगता है की आप अभी भी सपना ही देख रहे है । कई लोग इसके बारे में बताते है  कि ये आध्यात्म की तरफ़ ध्यान न देने का संकेत होता है ।

नींद में चलना

इस बीमारी के बारे में हम सभी वाकिफ है पर किसी को ये नहीं पता की ये होता क्यों है पर इसके बारे में कहा जाता है की इस बीमारी में आपका दिमाग तो सो जाता है पर आपका शरीर नहीं और इसी कारण अगर आप सपने में चलते है तो आपका शरीर असलियत में चलने लग जाता है । ऐसा करना काफी खतरनाक होता है क्यूंकि आप कई बार चलते-चलते छत पर या घर के बाहर भी चले जाते है । ये बीमारी ज़्यादा तर बच्चो में ही होती है पर ऐसा होता क्यों है ये अभी तक साफ़ नहीं हो पाया है ।

नींद में बातें करना |

नींद में बात करना भी एक बीमारी है जी हम  Somniloquy के नाम से जानते है । जिसे ये बीमारी होती है वो सोते हुए कुछ बाते करता है पर उसे ये पता नहीं होता उसे लगता है की वह सपने में ये सब बोल रहा है ।

सोते हुए सांस न ले पाना |

आपको कभी-कभी ऐसा लगता होगा की आप सोते वक़्त साँस नहीं ले पा रहे है और आपका दम घुटने लगता है जिसके कारण आप अचक्के में उठ जाते है ऐसा तब होता है जब आपके दिमाग को आॅक्सिजन की कमी महसूस होती है तब आर्टिरियल प्रेशर कम-ज़्यादा होता है, जिससे दिल का रोग हो सकता है. सोते वक़्त Pharynx Muscles भी रिलैक्स हो जाती हैं, जिससे सांस रुकती है. ये अधिकतर मोटे लोगों में होता है, या उनमें जो ज़्यादा सिगरेट पीते हैं ।

बार-बार एक ही सपना देखना

हम सभी को कई बार ऐसे सपने आते है जो हम कई देख चुके है पर हमे ये समझ नहीं आता की एक ही सपना हम बार-बार क्यों दीखता है । इसपे डॉक्टरों की माने तो ये सपने हमे उस और इशारा करते है जिस पर हमारा ध्यान नहीं है और जैसे ही हम उस चीज़ पर ध्यान देते है तो वो सपने भी हमे दिखना बंद हो जाते है ।

नींद में बिस्तर से गिरना |

आप सो रहे है पर जैसे ही आप पलटी मरते है तो आपको ऐसा लगता है की आप किसी बड़ी बिल्डिंग से नीचे गिर रहे है और अचानक से आपकी आंखे खुल जाती है और आप सोचते है की ये क्या था , हम आपको बताते है की ये क्या था । ऐसा तब होता है जब आप सोते हैं तब दिल की धड़कनें और सांस धीरे हो जाती हैं, मांस-पेशियां ढीली पड़ जाती हैं. ऐसे में दिमाग डर जाता कि कहीं आप मर तो नहीं गए इसलिए ये देखने के लिए वो मांस-पेशियों को सिग्नल भेजता है.

सोते हुए खुद को देखना |

इस बीमारी को डॉक्टर Neuropsychological Phenomenon बोलते है , वह कहते है की जब व्यक्ति आधा सोता है और आधा जागता है. वो खुद को सोता हुआ देखता है. इससे व्यक्ति को एहसास होता है कि वो उसके अंदर की आत्मा थी. वैज्ञानिक मानते हैं कि ये सिर्फ़ सोचना होता है ।

Hypnagogic Hallucinations

आपने कई लोगो को देखा होगा जिनकी आंखे सोते वक़्त उनकी कुछ बंद और कुछ खुली रहती है , उन्हें देखकर हम यही सोचते है की क्या वो सो रहे है या जग रहे है । ये भी एक तरह की बीमारी होती है जिसे Hypnagogic Hallucinations  कहते है ये बीमारी ज़्यादा तर बच्चों में होती है, जिन्हें सोने की इच्छा नहीं होती. या ज़्यादा तनाव भी इसकी वजह होती है , या ज़्यादा सोचने की वजह से भी से भी होती है ।

स्लीप पैरालिसिस

ये सोते वक़्त की सबसे भयानक बीमारी है स्लीप पैरालिसिस । इस बीमारी में आपको ऐसा लगता है की आपको कोई मार रहा है या आप खाई में गिर रहे हैं पर कुछ कर नहीं पा रहे । हम सभी को ऐसा कई बार महसूस होता है ऐसा इसलिए होता है कि जब हम सोते हैं, तो हमारी मांस पेशियां भी सो जाती हैं, पर दिमाग जागता रहता है. दुनिया की 7 प्रतिशत आबादी को जीवन में एक बार तो इसका अनुभव हुआ है ।

एक्सप्लोडिंग हेड सिंड्रोम

इस बीमारी में  लोगों को लगता है कि कोई तेज़ धमाका हुआ है या किसी ने ताली बजाई है, जिसके बाद वो अचानक जाग जाते हैं. ये आवाज़ उन्हें इतनी तेज़ लगती है, कि जैसे उनका कान फट गया हो.  ये तब होता है जब दिमाग का वो हिस्सा, जो आवाज़ पर प्रतिक्रिया देता है, उसमें कोई गतिविधी हो.

Sleeping facts

loading...