भारत की 14 रहस्यमई घटनाएं जिनको आज तक नहीं सुलझाया गया

पिछले कुछ सालों में भारत में कई रहस्यमई घटनाएं घटी जिनको उस समय पर बहुत गंभीर रुप से लिया गया लेकिन कुछ लोगो ने इनरहस्यमय घटनाओं को सच नहीं समझा लेकिन कुछ लोग कुछ वक्त के लिए उन घटनाओं से बहुत चकित हो गए थे ऐसी कुछ घटनाएं आपको बता रहे

1. स्टोन मैन

स्टोन मैन

1989 में कोलकाता की सड़कों पर स्टोन मैन के नाम का एक खोफ़ बना हुआ था 6 महीने में उसने 13 हत्या की थी वह सड़कों पर सो रहे बेघरों को पत्थर से मारकर जान ले लेता था परंतु यह कभी साबित नहीं हो पाया था  की स्टोन मैन के नाम से कौन था आज तक यह रहस्य बना हुआ है 

2. रहस्यमय मंदिर

रहस्यमय मंदिर

वीरभद्र मंदिर जिसका एक पिलर टंगा हुआ है आप इसके नीचे से एक कपड़ा एक साइड से दूसरी साइड  निकाल सकते हैं यह मंदिर आंध्रप्रदेश के अनंत पूर्व में है सोलवी शताब्दी में बने इस मंदिर की गुत्थी आज तक कोई भी इंजीनियर नहीं सुलझा सका आज भी यह रहस्य बना हुआ है

3. जुड़वां बच्चों का गांव

जुड़वां बच्चों का गांव

केरल का कोडिन्ही रहस्य एक ऐसा रहस्यमय  गांव है जहां पर जुड़वा बच्चा होना एक आम बात है यहा पर 2004 से 2009 के बीच 120 जुड़वा बच्चे पैदा हुए इस गांव में लगभग 2000 परिवार रहते हैं लेकिन इसकी कोई वजह नहीं जानता है कि ऐसा क्यों होता है

4. 1940 से बिना खाना खाए और पानी के हैं जिंदा साधु प्रह्लाद माताजी

1940 से बिना खाना खाए और पानी के हैं जिंदा साधु प्रह्लाद माताजी

गुजरात में रहने वाले प्रह्लाद माताजी नाम के साधु ने यह दावा किया था कि उन्होंने 1940 से कुछ खाया ना कुछ पिया है 2010 में उनके ऊपर 3 कैमरे लगाए गए जिससे उनके 24 घंटे निगरानी में रखा गया लेकिन इसमें कुछ भी सन्देह्स्पद नहीं मिला इसे कई लोगों यह मानने लगे कि यह केवल ऑक्सीजन और रोशनी से जिंदा है हालांकि उनके दावे को साइंटिफिक तौर पर अभी तक मान्यता नही मिली है 

5. सम्राट अशोक ने बनाई थी 9 लोगों की रहस्यमय सोसाइटी ?

सम्राट अशोक ने बनाई थी 9 लोगों की रहस्यमय सोसाइटी ?

सम्राट अशोक ने इतिहास की रहस्यमई चीजों की सुरक्षा के लिए 9 लोगों की एक सोसाइटी बनाई थी जिसे "दा नाइन अननोन" के नाम से भी जाना जाता है अशोक ने 273 ईसापूर्व में इस शक्तिशाली लोगों की सोसाइटी का निर्माण कलिंग के युद्ध में 1 लाख लोगों के मारे जाने के बाद किया था

 कहा जाता है कि इन लोगों के पास ऐसी सोचनाए थी जो ग़लत हाथों में तो बहुत खतरनाक साबित हो सकती थी इनमे प्रोपेगैंडा सहित माइक्रोबायोलॉजी से संबंधित किताबें थी इन किताबों के बारे में कहा जाता है कि इनमें एंटी ग्रेविटी और टाइम ट्रैवल के गुप्त सिद्धांत दर्ज थे यह 9 लोग विश्व के कई स्थानों में फैले हुए थे और सबसे बड़े आश्चर्य की बात तो यह थी कि इनमे कुछ लोग विदेशी भी थे

6. कुलधारा गांव है श्रापित

कुलधारा गांव है श्रापित

राजस्थान के जैसलमेर जिले में कुलधारा गांव का नाम का गांव है 500 साल पहले कुलधारा गांव में 1500 परिवार रहते थे एक रात वह सब गायब हो गए लेकिन ना तो इन के मारे जाने और ना ही कोई अपहरण होने की कोई जानकारी मिली इस घटना के पीछे क्या कारण था उसका पता नहीं चल पाया है इस बारे में लोग कई किस्से कहानियां सुनाते हैं पुरानी किवदंती  के अनुसार कुछ लोगों ने अपने जमाने की कोशिश की थी बिल्कुल वीरान पड़ा है

7. लद्दाख का द कोंग्का ला दर्रा में दिखा यूएफओ

लद्दाख का द कोंग्का ला दर्रा में दिखा यूएफओ

लद्दाख का द कोंग्का ला दर्रा दुनिया के उन इलाकों में है, जिसके बारे में बहुत कम जानकारी मिल पाई है। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण है हिमालय का यह क्षेत्र बर्फीला और दुर्गम है। स्थानीय लोगों और यात्रियों का दावा है कि यहां यूएफओ का दिखाई देना आम बात है। इन बातों को पहले अधिक महत्व नहीं दिया गया, लेकिन जून 2006 में गूगल के सैटेलाइट से ली गई फोटो भी सामने आई जिसने लोगों को चौंका दिया। 

यह भारत और चीन की सीमा पर पड़ता है। यह दोनों देशों के बीच सैन्य-विवाद का विषय बन चुका है। यह नो-मैन्स लैंड घोषित है। दोनों देश इस पर नजर रखते हैं, लेकिन कोई भी देश इस क्षेत्र में पैट्रोलिंग नहीं करता है।

8. जोधपुर के आकाश में हुआ तेज धमाका

जोधपुर के आकाश में हुआ तेज धमाका

18 दिसंबर 2012 को जोधपुर के आकाश में एक अनोखी घटना घटी जिससे जोधपुर में के आकाश में तेज रोशनी हुई घटना से ऐसा लगा कि कोई एरोप्लेन क्रैश हुआ है या जैसे कोई भयानक विस्फोट हुआ हो लोग इस आवाज से बहुत परेशान हो गए थे और वह डर गए थे लेकिन बाद में पता चला ना तो कोई एरोप्लेन क्रैश हुआ है औरना ही कोई भयानक विस्फोट हुआ है जोधपुर की यह घटना दुनिया में चर्चा का विषय बन गई थी

9. महिला का हुआ पुनर्जन्म

महिला का हुआ पुनर्जन्म

शांति देवी का जन्म 1930 में एक खुशहाल परिवार में दिल्ली में हुआ था। हालांकि, वह ज्यादा समय तक खुश नहीं रह सकी। जब वह चार साल की थी, तब से जिद्द करने लगी कि उसके माता-पिता कोई और हैं। शांति देवी ने दावा किया कि एक बच्चे को जन्म देते समय उसकी मौत हो गई थी और अपने पति तथा परिवारजनों के बारे में काफी जानकारियां दी थी। शांति देवी के पिता ने उसके दावों के बारे में जब पता किया तो वे सारे सच निकले। एक महिला का नाम लुडगी देवी था और बच्चे को जन्म देते समय उसकी मौत हो गई थी। परिवार के लोगों को सबसे अधिक आश्चर्य तब हुआ जब शांति देवी ने समय और शहर का नाम एकदम सटीक बताया। जब वह अपने पूर्वजन्म के पति से मिली तो उसने उसे पहचान लिया और अपने बच्चे को मां की तरह प्यार करने लगी।

10. मौत के बाद भी सैनिक कर रहा है देश की रक्षा

मौत के बाद भी सैनिक कर रहा है देश की रक्षा

हिमालय क्षेत्र में भारत चीन की सीमा के पास एक स्थान है "नाथुला पास"  जहां पर 4 अक्टूबर 1968 को हरभजन सिंह की मौत बर्फ मे आई दरार के कारण नदी मे डूब जाने से हुए थी 3 दिन बाद उनकी बॉडी नदी में 2 किलोमीटर दूरी पर मिली तब उनकी उमर 27 साल थी रिपोर्ट के मुताबिक हरभजन सैनिक साथियों के सपने में आए और उस जगह को पवित्र जगह बनने के लिए कहा उनके साथियों ने इस बात को गंभीर रुप से लिया और वहां पर एक मेमोरियल का निर्माण कर लिया वहां के स्थानीय निवासी उसे पवित्र मानने लगे  मौत के बाद भी सैनिक हरभजन को भारतीय सेना मे परमोशन होता रहा ऐसा मानते हैं कि हरभजन उनकी रक्षा करते हैं वहां पर होने वाली हर मीटिंग में उनके लिए कुर्सी छोड़ दी जाती है किसी भी अटैक की जानकारी हरभजन 3 दिन पहले दे देते हैं ऐसा उनके साथियों का कहना है

11. बर्ड सुसाइड विलेज

बर्ड सुसाइड विलेज

आसाम की एक गांव जतिंगा को "बर्ड सुसाइड विलेज" के रूप में जाना जाता है यहां पर हर साल काफी संख्या में पक्षी आते हैं और अपनी जान दे देते हैं ऐसा सिर्फ़ मानसून में देखने को मिलता है कुछ लोग इस बात को रहस्यमय मानते हैं और कुछ इस बात पर बिलकुल भी विश्वास नहीं करते

12. क्या ताज महल का है दूसरा सच

क्या ताज महल का है दूसरा सच

ताजमहल मुग़ल शासन की बेहतरीन उपलब्धि है यह दुनिया भर में मशहूर है और इसे सच्चे प्यार का प्रतीक माना जाता है 17वी सदी में शाहजहां ने अपनी पत्नी मुमताज की याद में बनवाया था लेकिन 2007 में भारतीय लेखक और प्रोफेसर पुरुषोत्तम ने दावा किया कि ताजमहल शिव का मंदिर हुआ करता था उन्होंने अपने पक्ष में कोई तथ्य भी रखे लेकिन भारत सरकार ने उनके तथ्यों को खारिज कर दिया हालांकि कई लोगों ने उनके दावे को खारिज कर दिया  दिसंबर 2015 में केंद्रीय मंत्री ने कहा सबूत नहीं है 

भारत के केंद्रीय संस्कृति मंत्री महेश शर्मा ने भी सरकार को ताजमहल के हिंदू मंदिर होने के दावे से कोई सबूत नहीं मिला पिछले साल 6 वकीलों ने याचिका दायर करते हुए कहा था एक समय में हिंदुओं का शिव मंदिर था इसे हिंदुओं को दे देना चाहिए था

13. मैग्नेटिक हिल

मैग्नेटिक हिल

लद्दाख में एक रहस्यमय पहाड़ी है जिसे चुंबकीय पहाड़ी के नाम से भी जाना जाता है  अगर वहां पर कोई गाड़ी न्यूटल में खड़ी कर देते हैं तो वह अपने आप सड़क पर 20 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से नीचे की ओर चलने लगती है वहां के लोग इसे हिमालयन वंडर कहते हैं लेकिन इस बात का अभी तक नहीं पता चल पाया है कि ऐसा क्यों होता है

14. बुलेट मंदिर

बुलेट मंदिर

2 दिसंबर 1988 को राजस्थान में बुलेट के पेड़ से टकराने से ओम बन्ना की पत्नी की मृत्यु हो गई थी पुलिस उस बुलेट को अपने साथ थाने ले गई लेकिन अगले दिन वह बुलेट किसी रहस्मय तरीके से उसी पेड़ के पास आ गई यह किरया बहुत बार हुई  पुलिस बुलेट को ले जाती रही और बुलेट अपने आप रहस्मय तरीके से पेड़ के पास आ जाती लोग उस बुलेट को पवित्र मानने लगे और उसकी पूजा करने लगे और किसी ने उसके इस रहस्य को जानने की चेष्ठा नहीं की

loading...